http://blogsiteslist.com

मंगलवार, 20 दिसंबर 2016

‘उलूक’ गुंडा भी सत्य है और सत्य है उसकी गुंडई भी भटक मत लिख

गुंडे की
गुंडई
होनी ही
चाहिये
अब गुंडा
गुंडई
नहीं
करेगा
तो क्या
भजन
करेगा

वैसे ऐसा
कहना भी
ठीक नहीं है

गुंडे भजन
भी किया
करते हैं

बहुत
से गुंडे
बहुत
अच्छा
गाते हैं

कुछ गुंडे
कवि भी
होते हैं

कविता
करना
और
कवि होना
दोनो
अलग
अलग
बात हैंं

गुंडई
कुछ
अलग
किस्म
की
कविता है

गुंडई
के गीतों
की
धुनें भी
होती हैं
महसूस
भी
होती हैं
कपकपाती
भी हैं

बातें
सब ही
करते हैं

गुंडई का
प्रतिकार
करना भी
जरूरी
नहीं है

क्यों किया
जाये
प्रतिकार भी

जब बात
करने से
काम
निपट
जाता है

गुंडे
पालना
भी एक
कला
होती है

गुंडा नहीं
होने का
प्रमाणपत्र
होना और
गुंडो का
सरदार
होना

एक
गजब
की कला
नहीं
है क्या ?

अखबार
के पन्नों
पर गुंडों
की खबरें
भरत नाट्यम
करती हैं

पता नहीं

पूजा
मंदिर
भगवान
और
गुंडे
कुछ कुछ
ऐसा
जैसे
औड मैन
आउट
करने
का
सवाल

किसे
निकालेंगे ?

सनक की
क्या करे
कोई
किसी की
उस पर
खाली
गोबर सना
गोबर भरा
‘उलूक’
हो अगर

भटक
जाता है
कई बार
कोई
शरमाकर

गुंडो
और
उनकी
गुंडई
पर नहीं
उनके
रामायण
बांंचने की
तारीफ करते
हुए लोगों के
उपदेशों पर

लिखना
इसलिये
भी
जरूरी है
क्योंकि
गुंडा
और
गुंडई
खतरनाक
नहीं
होते हैंं

खतरनाक
होते हैं
वो सारे
समाज के
लोग जो
मास्टर
नहीं होते हैं
पर शुरु
कर देते हैं
हेड मास्टरी
समझाने
और
पढ़ाने को
गुंडई
समाज को।

चित्र साभार: http://i.imgur.com/iWre2oh.jpg

गुरुवार, 15 दिसंबर 2016

आओ धमकायें नया उद्योग लगायें

नये
जमाने
के साथ
बदलना
सीखें

कुछ
उद्योग
धन्धे नये
धन्धों से
अलग
खींच कर

धन्धों के
खेत में
खींच
तान कर
अकलमंदी के
डंडे से सींचें
पनपायें

आओ
धमकायें

धमकाने के
धन्धे से
किसी की
किस्मत
चमकायें

आओ बुद्ध
बन जायें
ऊपर कहीं
बैठ कर
ऊँचाई
अपनी
लोगों को
समझायें

नये नये
उद्योगों
की
लम्बी
लम्बी
कतारें
लगायें

आओ
पीछे कहीं
खड़े खड़े
आगे
चल रहे
को
गलियाएं

आओ
लोगों का
बोलना
बन्द
करवायें

बोलती
बन्द करने
की मशीनें
ईजाद करें
देश आगे
ले जायें

अपना
मुँह खोलें
दांत दिखायें
ना देखना
चाहे कोई
काट खायें

आओ
कटखन्ने
हो जायें
काट खाने
के तरीके
समझें
समझायें

नये नये
काटखाने के
उपकरण
तैयार करें
कटखन्ने
उद्योग
उगायें

आओ
सीखें
सिखाने
वालों से
उनके
समझे
बूझे को

‘उलूक’
की तरह
बकवास
कर कर
लोगों को
ना पकायें

आओ
नये जमाने
के
नये लोगों
के नये
ज्ञान का
लाभ उठायेंं

आओ
खुद के
लिये नहीं
किसी
के लिये
लोगों को
धमकायें
धमकाने के
उद्योग
फलें फूलें
राग धमकी
में ढले
गीत गायें ।

चित्र साभार: WorldArtsMe

बुधवार, 14 दिसंबर 2016

करने वालों को लात नहीं करने वालों के साथ बात सिद्धांततह ही हो रहा होता है

बेवकूफों
की
दिवाली

समझदारों
की
अमावस
काली

बाकी
लेना देना
अपनी
जगह पर

होना
ना होना
होने
ना होने
की
जगह पर
पहले
जैसा ही
होना
होता है
हो रहा
होता है

अवसरवाद
को
छोड़ कर
कोई भी वाद
वाद नहीं
होता है
किसे
इस बात
से मतलब
हो रहा
होता है

किसे
समझाये
आदमी
इस
बात को
जहाँ
आदमी ही
आदमी को
खुद
खुरचता
और
खुद ही
रो रहा
होता है

पानी नहीं
होता है
फिर भी
कोई भी
किसी
को भी
खुले आम
धो रहा
होता है

सारे
हम्माम
बुला रहे
होते हैं
सब कुछ
उतारे
हुओं
को ही
फिर
किस लिये
कोई
उतारा हुआ
कुछ
ओढ़ कर
उधर
घुसने
के लिये
रो रहा
होता है

पढ़ने
पढा‌ने में
किस लिये
लगे हुए हैं
नासमझ लोग

जब
समझदार
कभी भी
नहीं
पढ़ाने वाला
पढा‌ई लिखाई
कराने वालों
की लाईन
बनाने के
लिये लाईने
बो रहा होता है

केवल एक
दो हजार
के नोट
को
निकालने
में लग
रहे होते
हैं जहाँ
सारे
समझदार लोग

लाईन लगा
कर एक
बेवकूफ
ही होता
है जो
हजारों
दो हजार
के नोटों की
लाईन
पर लाईन
अपने घर पर
कहीं लगा कर
सो रहा होता है

समझने
में लगा है
देश
समझदारी
समझदार की
जो हो
रहा होता है
वो हो
रहा होता है

कोई
नया भी नहीं
हो रहा होता है
घर मोहल्ले में
हर दिन
हर समय
हो रहा होता है
चोर के
हाथ में
चाबियाँ
खजानों
की दिख
रही होती हैं

अंधा ‘उलूक’
अलीबाबा के
खुल जा
सिमसिम
मंत्र को
कागज में
लिख लिख
कर कहीं
बिना बताये
जमीन में
बो रहा
होता है

रोना बन्द
हो रहा
होता है
सभी रोने
वालों का
छातियाँ पीटने
वालों का
काला सोना
सफेद ‘सोना’
हो रहा होता है

क्रांतिकारियों
के चित्र और
कहानियों का
उजाला लिये
हाथ में
सर पीटता
अँधेरा कहीं
कोने में रो
रहा होता है ।

चित्र साभार: Dragon Alley Journals - WordPress.com

शुक्रवार, 9 दिसंबर 2016

बेवकूफ हैं तो प्रश्न हैं उसी तरह जैसे गरीब है तो गरीबी है

जब भी
कहीं
कोई प्रश्न
उठता है
कोई
ना कोई
कुछ ना
कुछ
कहता है

प्रश्न तभी
उठता है
जब उत्तर
नहीं मिलता है

एक ही
विषय
होता है
सब के
प्रश्न
अलग
अलग
होते हैंं

होशियार
के प्रश्न
होशियार
प्रश्न होते हैंं
और
बेवकूफ
के प्रश्न
बेवकूफ
प्रश्न होते हैं

होशियार
वैसे
प्रश्न नहीं
करते हैं
बस प्रश्नों
 के उत्तर
देते हैं

बेवकूफ
प्रश्न करते हैं
फिर
उत्तर भी
पूछते हैं
मिले हुऐ
उत्तर को
जरा सा
भी नहीं
समझते है

समझ
गये हैं
जैसे कुछ
का
अभिनय
करते हैं
बहस नहीं
करते हैं

मिले हुए
उत्तर के
चारों ओर
बस सर पर
हाथ रखे
परिक्रमा
करते हैं

समय भी
प्रश्न करता
है समय से
समय ही
उत्तर देता
है समय को

समय
होशियार
और
बेवकूफ
नहीं
होता है
समय
प्रश्नों को
रेत पर
बिखेर
देता है

बहुत सारे
रेत पर
बिखरे हुऐ
प्रश्न
इतिहास
बना देते हैं

रेत पानी में
बह जाती है
रेत हवा में
उड़ जाती है
रेत में बने
महल ढह
जाते हैं
रेत में बिखरे
रेतीले प्रश्न
प्रश्नों से ही
उलझ जाते हैं

कुछ लोग
प्रश्न करना
पसन्द करते हैं
कुछ लोग
उत्तर
के डिब्बे
बन्द करा
करते हैं

बेवकूफ
‘उलूक’
की आदत है
जुगाली करना
बैठ कर
कहीं ठूंठ पर
उजड़े चमन की
जहाँ हर तरफ
उत्तर देने वाले
होशियार
होशियारों
की टीम
बना कर
होशियारों
के लिये
खेतों में
हरे हरे
उत्तर
उगाते हैं

दिमाग
लगाने की
ज्यादा
जरूरत
नहीं है
देखते
रहिये
तमाशे 
होशियार
बाजीगरों के
घर में
बैठे बैठे

बेवकूफों के
खाली दिमाग
में उठे प्रश्न
होशियारों के
उत्तरों का
कभी भी
मुकाबला
नहीं करते हैं ।

चित्र साभार: Fools Rush In

शनिवार, 3 दिसंबर 2016

हर तरफ फकीर हैं फकीर ही फकीर

अचानक
सामने से
आ पड़ा
अभी आज
पता नहीं
कहाँ से

शब्द
फकीर

अब
आ ही
बैठा

फकीर
तो
आ बैठा

जब तक
फकीर से
बैठने की
गुजारिश
करता

चाय नाश्ते
पानी की
पेशकश
करता

अपने
आस पास
के सारे
फकीर
आ गये

घूमना
शुरु
हो गये
सामने से
पर्दे में

और

दिखा
सूट में
चमचमाता
फकीर

दिखा
हैलीकौप्टर
में आता
जाता फकीर

दिखा
सीटी
बजाता फकीर

दिखा
भजन
गुनगुनाता
फकीर

दिखा
राकेट हो
जाता फकीर

दिखा
गंगा धोने
जाता फकीर

दिखा
चुनाव
जीत जाता
फकीर

दिखा
संसद में
बैठने आता
फकीर

दिखा
भाषण
फोड़ जाता
फकीर

दिखा
हर तरफ
हर आदमी
हो जाता
फकीर

दिखा
घर में
मोहल्ले में
शहर में
जिले में
राज्य में

अपनी
जगह
बनाता
फकीर

दिखा
स्कूल में
कालेज में
पढ़ाता
फकीर

दिखा
परीक्षाएं
करवाता
फकीर

दिखा
विश्वविद्यालय
चलाता
फकीर

दिखा
नेता
बनाता
फकीर

दिखा
अस्पताल में
दवा दारू
दिलवाता फकीर

दिखा
न्याय
दिलवाता
फकीर

दिखा
इज्जत
बचवाता
फकीर

दिखा
चोर
पकड़वाता
फकीर

दिखा
सजा
दिलवाता
फकीर

दिखा
नोट
बदलवाता
फकीर

दिखा
हर तरफ
फकीर
और
फकीर

दिखा
फकीरी
सिखलाता
फकीर

बस कर

‘उलूक’
रुक भी जा
मत देख
फकीर
दर
फकीर
फकीरों
के देश में

खुश
रह कर
हमेशा
की तरह
बैठ कर
पीटता
चला चल
अपनी
लकीर
दर
लकीर ।

चित्र साभार : Kids Coloring Book

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...