http://blogsiteslist.com

सोमवार, 18 जनवरी 2010

मन प्रदूषण

मेरे मन
के ग्लेशियर
से निकलने
वाली गंगा
तेरे प्रदूषण
को
घटते बढ़ते
हर पल
हर क्षण
महसूस किया
है मैंने
भोगा है
तेरे गंगाजल
के काले भूरे
होते हुवे
रंग को
विकराल
होते हुवे
तेरी शांत
लहरों को
बदलते हुवे
सड़ांध में
तेरी
भीनी भीनी
खुश्बू को
और ऎसे
में अब
मेरी
सांस्कृ्तिक
धरोहर
मैं खुद
ही चाहूंगा
ये ग्लेशियर
खुद बा खुद
सूख जाये
ताकि मेरे
मन से
बहने वाली
पवित्र गंगे
तू मैली
ना कहलाये ।

रविवार, 17 जनवरी 2010

भ्रम

आदमी
क्यों
चाहता है
अपनी ही
शर्तों पर
जीना
सिर्फ
अमन चैन
सुख की
हरियाली
में सोना
ढूंढता है
कड़वे स्वाद
में मिठास
और
दुर्गंध में
सुगंध
हाँ
ये आदमी
की ही
तो है
चाहत
उसे भूलने
से मिलती
है राहत
फिर भी
पीढ़ा दुख
का अहसास
एक स्वप्न
नहीं
सुख की
ही है
छाया
और
छाया कभी
पीछा नहीं
छोड़ती
सिर्फ अँधेरे
से है
मुंह मोड़ती
आदमी
अंधेरा भी
नहीं चाहता
करता है
सुबह का
इंतजार
अंधेरा
मिटाने को
रात का
इंतजार
छाया
भगाने को
और
ऎसे ही
निकलते
हैं
दिन बरस
फिर भी
न जाने
आदमी
क्यों
चाहता है
अपनी ही
शर्तों पर
जीना ।

शनिवार, 16 जनवरी 2010

आदमी और सौर मण्डल

आदमी
घूमता है
तारा बन
अपने ही
बनाये
सौर मण्डल
में
घूमते घूमते
भूल
जाता है
कि घूमना
है उसे
अपने ही
सूरज के
चारों ओर
जिंदगी के
हर हिस्से
के सूरज
नज़र आते
है उसे
अलग
अलग
घूमते
घूमते
भूल
जाता है
चक्कर
लगाना
और
लगने लगता
है उसे
वो नहीं
खुद सूरज
घूम
रहा है
उसके ही
चारों
ओर

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...