http://blogsiteslist.com

मंगलवार, 15 अगस्त 2017

ऊँची उड़ान पर हैं सारे कबूतर सीख कर करना बन्द पंख उड़ते समय

किसी
से उधार
ली गई
बैसाखियों
पर करतब
दिखाना
सीख लेना

एक दो
का नहीं
पूरी एक
सम्मोहित
भीड़ का

काबिले
तारीफ ही
होता है

सोच के
हाथ पैरों को
आराम देकर

खेल खेल
ही में सही

बहुत दूर के
आसमान
को छू लेने
का प्रयास

अकेले नहीं
मिलजुल कर
एक साथ

एक मुद्दे
चाँद तारे
उखाड़ कर
जमीन पर
बिछा देने
को लेकर

सोच का
बैसाखी लिये
सड़क पर
चलना दौड़ना

नहीं जनाब
उड़ लेने
का जुनून

साफ नजर
आता है आज

बहुत बड़ी
बात है
त्याग देना
अपना
सब कुछ

अपनी खुद
की सोच
को तक

तरक्की के
उन्माँद की
खुशी व्यक्त
करना
बहुत जरूरी
होता है ‘उलूक’

त्यौहारों के
उत्सवों को
मनाते हुऐ

अपने पंखों
को बन्द कर
उड़ते पंछियों
को एक ऊँची
ऊड़ान पर
अग्रसर होते
देख कर।

चित्र साभार: NASA Space Place

शनिवार, 12 अगस्त 2017

बस एक कमेटी बना मौत के खेल को कोढ़ के खेल पर ले आ

कहा था
कोढ़ फैला

कोढ़
समझ में
नहीं आया तेरे
मौत फैला आया

आक्सीजन से
कोढ़ भी हो
सकता था
तुझे पता
नहीं था

मौत देने की
क्या जरूरत थी

आक्सीजन
से कोढ़
समझ में
नहीं आ
रहा होगा

होता है

कुछ भी
सम्भव है
किसी चीज
से कुछ भी
हो सकता है

कैसे हो
सकता है


अखबार
वालों से
रेडियो
वालों से
टी वी
वालों से
समबन्ध कुछ
अच्छे बना

समबन्ध
मतलब
वही जो
घर में घर
के लोगों से
घर के जैसे
होते हैं

चिन्ता करने
की जरूरत
नहीं है

अब कर दिया
तो कर दिया
हो गया
तो हो गया

ऐसा कर
अब कमेटी
एक बना

कमेटी में
उन सब को
सदस्य बना
जिनको मौत
समझ में
नहीं आती है
बस कोढ़
समझ में
आता है

कोढ़ का
मतलब
उस बीमारी
से नहीं है
जिसमें शरीर
गलता है थोड़ी सी
आत्मा को गला

कई जगह
कई आत्माएं
सामने सामने
गलती बहती
हुई दिखती हैं
बहुत मौज
में होती हैं

जब कोढ़
हो जाना
या कोढ़ी
कहलाया जाना
किसी जमाने से
सम्मान की बात
हो चुकी होती है

‘उलूक’ को
खुजली होती
ही रहती है
उसकी खुजली
पर मत जा

कोढ़ और कोढ़ी
उन्मूलन के
खिलाफ
कुछ मत बता

बस कुछ
रायता फैला
कुछ दही
कुछ खीरा
अलग कर
और
कुछ नमक
कुछ मसाला
फालतू का मिला

खुद भी खा
कमेटी को
भी कुछ खिला।


चित्र साभार: Weymouth Drama Club

शुक्रवार, 4 अगस्त 2017

बेहयाई से लिखे बेहयाई लिखे माफ होता है

लहर कब उठेगी
पता नहीं होता है
जरूरी नहीं
उसके उठने के
 समय हाथ में
किसी के
कैमरा होता है

शेर शायरी
लिखने की बातें
हैं शायरों की
ऐसा सभी सुनते हैं
बहुतों को पता होता है

बहकती है सोच
जैसे पी कर शराब
सोचने वाला
पीने पिलाने की
बस बातें
सोचता रहता है

कुछ आ रहा
था मौज में
लिख
देना चाहिये
सोच कर
लिखना
शुरु होता है

सोच कब
मौज में आयी
सोचा हुआ कब
बह गया होता है
किसे पता होता है

रहने दे चल
कुछ फिर और
डाल साकी
सोच के गिलास में

शराब और गिलास
का रिश्ता अभी
भी बचा है
कोई गिला कोई
शिकवा नहीं
बताता है
अखबार वाला भी
कभी पढ़ने में
सुनने में ऐसा
आया भी
नहीं होता है

‘ऊलूक’ की
आदत है
इधर की
उधर करने की

जैसा कहावतों
में किसी की
आदत के लिये
कहा होता है

रोज लिखना
शरीफों
की खबर
ठीक भी
नहीं होता है

किसी दिन
शरीफों के
मोहल्ले में
शराफत से
कुछ नहीं
बोल देना भी
ठीक होता है।

चित्र साभार: Shutterstock

सोमवार, 31 जुलाई 2017

काला पूरा काला सफेद पूरा सफेद अब कहीं नहीं दिखेगा

शतरंज की
काली सफेद
गोटियाँ
अचानक
अपने डिब्बे
को छोड़ कर
सारी की सारी
बाहर हो गयी हैं

दिखा रही हैं
डिब्बे के
अन्दर साथ
रहते रहते
आपस में
हिल मिल कर
एक दूसरे में
खो गयी हैं

समझा
रही हैं
तैयार हैं
खुद ही
मैदान में
जाने के लिये

आदेशित
नहीं की
गयी हैं
विनम्र
होते होते
खुद ही
निर्देशित
हो गयी हैं

कुछ काली
कुछ सफेद के
साथ इधर
की हो गयी हैं
कुछ सफेद
कुछ काली के
साथ उधर
को चली गयी हैं

अपने खेल
गोटियाँ अब
खुद खेलेंगी
चाल चलने
वालों को
अच्छी तरह से
समझा गयी हैं

घोड़े ऊँठ
और हाथी
पैदल वजीर
के साथी
सोचना छोड़ दें
पुराना खेल
खेलने के आदी

हार जीत
की बात
कोई नहीं
करेगा
भाईचारे के
खेल का
भाईचारा
भाई का भाई
अपने अखबार में
कम्पनी के लिये नहीं
खिलाड़ियों के
लिये ही
बस और बस
लिखता
हुआ दिखेगा

खेल का
मैदान भी
काले सफेद
खानों में
नहीं बटेगा

आधे
सफेद खाने
के साथ आधा
काला खाना भी
बराबरी के साथ
कंधे से कंधा
मिलाता
हुआ दिखेगा

 जातिवाद
क्षेत्रवाद
आतंकवाद
इसी तरह से
खेल खेल में
शतरंज के
खेल को
उसी की
गोटियों के हाथ
स्वतंत्रता के साथ
खेलने देने के हक
दे डालने के बाद
से मिटता हुआ
अपने आप दिखेगा

‘उलूक’
समझ ले
हिसाब किताब
पीछे पीछे कुछ भी
नहीं अब चलेगा

इस सब
के बाद
काला काले
के लिये ही
और सफेद
सफेद के
लिये ही नहीं

काला सफेद
के लिये और
सफेद काले
के लिये भी
आसानी से
सस्ते दामों में
खुली बाजार में
बिकता हुआ दिखेगा ।

चित्र साभार: 123RF.com

रविवार, 23 जुलाई 2017

अपना सच कह देना अच्छा है ताकि सनद रहे

बहुत अच्छा
लगता है

जब अपने
मोहल्ले की
अपनी गली में

अपने जैसा ही
कोई मिलता है
अपनी तरह का
अपने हाथ
खड़े किये हुऐ

उसे भी
वो सब
पता होता है
जितना तुम्हें
पता होता है

ना तुम
कुछ कर
पाते हो
ना वो
कुछ कर
सकता है

हाँ
दोनों की
बातों की
आवृति
मिलती है
दो सौ
प्रतिशत

फलाँ
चोर है
फलाँ
बिक
गया है
फलाँ
बेच
रहा है
फलाँ
बेशरम है

हाँ
हो रहा है
पक्का

अजी
बेशरमी से
शरम है
ही नहीं

लड़कियों
को फंसा
रही है वो

बहुत
गन्दे खेल
चल रहे हैं

नाक ए है
कहते हैं
आप लोग

ना जी ना
अखबार में
नहीं आ
सकती हैं
ये सब बातें

नौकरी का
सवाल हुआ

कोई नहीं
तुम अपने
अखबार में
लिखते रहो
अपने फूलों
के लड़ने
की खबरें
उनकी
खुश्बुओं
पर खुश्बू
छिड़क कर

हम तो
लिखते
ही हैं
बीमार हैं

जरूरी है
लिखनी
अपनी
बीमारी
इलाज
नहीं है
कर्क
रोग का
जानते हुऐ

अच्छा लगा
मिलकर

दो भाइयों
का मिलन
हाथ खड़े
किये हुऐ ।

चित्र साभार: Shutterstock

सोमवार, 17 जुलाई 2017

फेस बुक मित्र के मित्रों के मित्रों के गिरोहों की खबरें

गिरोह गिरोह
की बात करें
देखें समझें
एक दूसरे को
आदाब करें

किसने रोका है

खामखा
अकेले चने को
भीड़ की खबरें
दिखा कर
उसकी शामें तो
ना बरबाद करें

माना कि
जमीन से कुछ
उठाने के लिये
झुकना बहुत
जरूरी है

मिल कर झुकें
हाथ में हाथ
डाल कर झुकें
उठा लें सारा
सब कुछ
मिल बाँट
कर मिट्टियाँ
अपने अपने
खेतों के नाम करें

सर उठा
कर जीने दें
एक दो पैर पर
खड़े इन्सान को

काट लें
बहुत जरूरी हो
सर कलम का
अगर मजबूरी हो

अपनी खुद की
आँखों में किसी
के शर्मसार
होने का ना
इन्तजाम करें

आपका पन्ना है
आपके दोस्त हैं
जो करना है करें
कल्तेआम करें

जो नहीं चाहता है
शामिल होना
गिरोहों के जलसों
की खबरों में

उसके पन्नों में
ले जा जाकर
खबरें अपनी
विज्ञापन अपने
अपने धन्धों के
ना सरे आम करें

‘उलूक’
की आदत है
दिन के अंधेरे में
नहीं देखने के
बहाने लिखना

लिखने दें
भाड़ नहीं
फोड़ सकने
की खिसियाहट
उसे भी थोड़ी

मिल जुल कर
करें चीर हरण

खबर अर्जुन ने
किया बलात्कार
या
फिर कन्हैया
के ही नाम करें।

चित्र साभार: Chatelaine

मंगलवार, 11 जुलाई 2017

अपनी अपनी लकीरें

तुझे अपनी
खींचनी हैं
लकीरें

मुझे अपनी
खींचने दे

मैं भी
आता हूँ
देखने
तेरी लकीरें

तू भी
बिना नागा
आता रहा है

लकीरें
समझने
आता है
कोई या
गिन कर
चला
जाता है
पता नहीं
चलता है

फिर भी
आना जाना
लगा रहता है
क्या कम है

लकीरें
खींचने वाला
आने जाने
वालों की
गिनती से
अपनी लकीरों
को गिनना
शुरु नहीं
 कर देता है

लकीरें खींचना
मजबूरी होती है

लकीरें
सब की होती हैं

कौन किस
लकीर का
किस तरह
से उपयोग
कर ले
जाता है
उसे ही
पता होता है

कान नाक
और आँख
सबकी
एक जैसी
दिखती हैं
पर होती
नहीं हैं

कुछ दिखाना
पसन्द करते हैं
कुछ छिपाना
पसन्द करते हैं

पर खेल
सारा लकीरों
का ही है

तेरी लकीर
मेरी लकीर से
कितनी लम्बी
कितनी सीधी
या ऐसा कुछ भी

अपनी अपनी
लकीरें ले कर
दूसरों की
लकीरों को
तव्वजो
दे लेना
बहुत बड़ी
बात है

लकीरें
समझने
के लिये
होती भी
नहीं हैं

इसीलिये
‘उलूक’
भी लकीरें
पीट रहा
है अपनी

अब किसी
की लकीर
बड़ी हो
जाती है
किसी की
सीधी हो
जाती है

कोई बात
नहीं है
अगली
 लकीर में
 संशोधन
किया जा
सकता है

लकीरबाजों
को ठंड
रखनी भी
जरूरी है ।

चित्र साभार: notimerica.com960

शनिवार, 8 जुलाई 2017

बदचलन होती हैं कुछ कलमें चलन के खिलाफ होती हैं

खासों में
आम
सहमति
से होती हैं
कुछ
खास बातें

कहीं किसी
किताब में
नहीं होती हैं

चलन में
होती हैं
कुछ पुरानी
चवन्नियाँ
और
अठन्नियाँ

अपनी
खरीददारियाँ
अपनी दुकानें
अपनी ही
बाजार होती है

होती हैं
लिखी बातें
पुरानी सभी
हर बार

फिर से
लिख कर
सबमें
बाँटनी
होती हैं

पढ़ने के
लिये नहीं
होती हैं
कुछ
किताबें

छपने
छपाने
के खर्चे
ठिकाने
लगाने की
रसीद
काटनी
होती हैं

लिखी
होती हैं
किसी के
पन्ने में
हमेशा कुछ
फजूल बातें

कैसे सारी
हमेशा ही
घर की
हवा के
खिलाफ
होती हैं

कलमें भी
बदचलन
होती हैं
‘उलूक’

नियत भी
किसी की
खराब होती है ।

चित्र साभार: 123RF.com

मंगलवार, 4 जुलाई 2017

श्रद्धांजलि कमल जोशी

आप भी
शायद नहीं
जानते होंगे
कमल जोशी 
को

मैं भी नहीं
जानता हूँ

बस उसकी
और
उसकी तस्वीरों
से कभी कभी
मुठभेड़ हुई है

कोई खबर
ले कर
नहीं आया हूँ
बस लिख
रहा हूँ

खबर
मिली है
वो अब
नहीं है
क्यों नहीं है
पता नहीं है

सुना गया है
लटके मिले हैं
लटके या
लटकाया गया
पता नहीं है

सुना है
समाज के लिये
बहुत सोचते थे
किस समाज
के लिये
मुझे पता नहीं है


मेरी दिली
इच्छा थी
ऐसी कई
फजूल
इच्छायें
होती हैं

उसको
जानने की

बस इतना
पता करना था
उसका समाज
और मेरा समाज
एक ही है
या कुछ अलहदा

बातें हैं

बहुत
से लोग
मरते हैं
घर में
मोहल्ले में
शहर में
और
समाज में

घर से
मोहल्ले से
समाज तक
पहुँचने से
पहले
भटक जाना
अच्छी बात
नहीं होती है

उसके
अन्दर भी
कोई
आग होगी

ऐसा मैंने
नहीं कहा है
लोग
कह रहे हैं

अन्दर की
नमी में
आग भी
शरमा कर
बहुत बार
खुद ही
बुझ लेती है

सब में
इतनी हिम्मत
कहाँ होती है

अब हिम्मत
उसकी
खुद की थी
या समाज की
खोज का
विषय है

तुम्हारे मरने
के बाद
पता चला कि
तुम भी
रसायन विज्ञान
के विद्यार्थी रहे थे

तुम्हारे अन्दर
क्या चल रहा था

लोग तुम्हारे
जाने के बाद
कयास
लगा रहे हैं

‘उलूक’ की
श्रद्धांजलि
तुम्हें भी
और उस
समाज के
लिये भी
जो तुम्हें
रोक भी
नहीं सका ।

शनिवार, 1 जुलाई 2017

चिट्ठाकार चिट्ठाकारी चिट्ठे और उनका अपना दिन एक जुलाई आईये अपनी अपनी मनायें

चिट्ठा
रोज भी
लिखा
जाता है

चिट्ठा
रोज नहीं
भी लिखा
जाता है

इतना
कुछ
होता है
आसपास
एक के नीचे
तीन छुपा
ले जाता है

मजबूरी है
अखबार
की भी

सब कुछ
सुबह
लाकर नहीं
बता पाता है

लिखना
लिखाना
पढ़ना
पढ़ाना
एक साथ
एक जगह
होता देखा
जाता है

चिट्ठाकारी
सबसे बड़ी है
कलाकारी

हर
कलाकार
के पास
होता है
पर्दा
खुद का

खुद
ही खोला
खुद ही
गिराया
जाता है

खुद छाप
लेता है
रात को
अखबार
अपना

सुबह
खुुुद पढ़ने
बिना नागा
आया जाता है

अपनी
खबर
आसानी
से छपने
की खबर
मिलती है

कितने लोग
किस खबर
को ढूँढने
कब
निकलते हैं
बस यही
अंदाज
यहाँ नहीं
लगाया
जाता है

जो भी है
बस
लाजवाब है

चिट्ठों की दुनियाँ

‘उलूक’
अपनी
लिखी
किताब
खुद पढ़ना
यहाँ के
अलावा
कहीं
और नहीं
सिखाया
जाता है ।

“ हैप्पी ब्लॉगिंग”

चित्र साभार: Dreamstime.com

शुक्रवार, 30 जून 2017

बुरा हैड अच्छा टेल अच्छा हैड बुरा टेल अपने अपने सिक्कों के अपने अपने खेल

           
              चिट्ठाकार दिवस की शुभकामनाएं ।

आधा पूरा
हो चुके
साल के
अंतिम दिन

यानि ठीक
बीच में
ना इधर
ना उधर

सन्तुलन
बनाते हुऐ
कोशिश
जारी है

बात को
खींच तान
कर लम्बा
कर ले
जाने की
हमेशा
की तरह
आदतन

मानकर

अच्छी और
संतुलित सोच
के लोगों को
छेड़ने के लिये
बहुत जरूरी है

थोड़ी सी
हिम्मत कर
फैला देना
उस सोच को

जिसपर
निकल कर
आ जायें
उन बातों
के पर

जिनका
असलियत
से कभी
भी कोई
दूर दूर
तक का
नाता रिश्ता
नहीं हो

बस सोच
उड़ती हुई
दिखे

और
लोग दिखें

दूर
आसमान
में कहीं
अपनी नजरें
गढ़ाये हुऐ
अच्छी उड़ती
हुई इसी
चीज पर

बंद मुखौटों
के पीछे से
गरदन तक
भरी सही
सोच को
सामने लाने
के लिये ही
बहुत जरूरी है
गलत सोच के
मुद्दे सामने
ले कर आना
डुगडुगी बजाना
बेशर्मी के साथ

शरम का
लिहाज
करने वाले
कभी कभी
बमुश्किल
निकल कर
आते हैं खुले में
उलूक
सौ सुनारी
गलत बातों पर
अपनी अच्छी
सोच की
लुहारी चोट
मारने के लिये।

चित्र साभार:
http://raviratlami.blogspot.in/2017/06/blog-post_30.html

मंगलवार, 27 जून 2017

पुराना लिखा मिटाने के लिये नया लिखा दिखाना जरूरी होता है

लगातार
कई बरसों तक
सोये हुऐ पन्नों पर
नींद लिखते रहने से
 शब्दों में उकेरे हुऐ
सपने उभर कर
नहीं आ जाते हैं

ना नींद
लिखी जाती है
ना पन्ने उठ
पाते हैं नींद से

खुली आँख से
आँखें फाड़ कर
देखते देखते
आदत पढ़ जाती है
नहीं देखने की
वो सब
जो बहुत
साफ साफ
दिखाई देता है

खेल के नियम
खेल से ज्यादा
महत्वपूर्ण होते हैं

नदी के किनारे से
चलते समय के
आभास अलग होते हैं

बीच धारा में पहुँच कर
अन्दाज हो जाता है

चप्पू नदी के
हिसाब से चलाने से
नावें डूब जाती हैं

बात रखनी
पड़ती है
सहयात्रियों की

और
सोच लेना होता है
नदी सड़क है
नाव बैलगाड़ी 
है 
और
यही जीवन है

किताबों में
लिखी इबारतें
जब नजरों से
छुपाना शुरु
कर दें उसके
अर्थों को

समझ लेना
जरूरी हो
जाता है

मोक्ष पाने
के रास्ते का
द्वार कहीं
आसपास है

रोज लिखने
की आदत
सबसे
अच्छी होती है

कोई ज्यादा
ध्यान नहीं
देता है
मानकर कि
लिखता है
रहने दिया जाये

कभी कभी
लिखने से
मील के पत्थर
जैसे गड़ जाते हैं

सफेद पन्ने
काली लकीरें
पोते हुऐ जैसे
उनींदे से

ना खुद
सो पाते हैं
ना सोने देते हैं

‘उलूक’
बड़बड़ाते
रहना अच्छा है

बीच बीच में
चुप हो जाने से
मतलब समझ में
आने लगता है
कहे गये का
होशियार लोगों को

पन्नो को नींद
आनी जरूरी है
लिखे हुऐ को भी
और लिखने वाले
का सो जाना
सोने में सुहागा होता है ।

चित्र साभार: Science ABC

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...